January 3, 2021

रिश्ते निभाएं कैसे दिलों में है बरहमी मय्यत निहारने की इजाज़त नहीं मिली   मरघट सी खामुशी है हर इक शहर में अभी बाहर वबा का खौफ़ है कमरों में ज़िन्दगी     पटरी पे हैं मजदूरों के शव  रोटियाँ बिखरी ट्रक बस के सफर में भी कहीं मौत है ख़ड़ी   रोज़ी छिनी, किराया…

January 3, 2021

दाल रोटी और दवाई के सिवा क्या चाहिए लॉक डाउन में मेरे भाई भला क्या चाहिए   शर्ट टाई पैंट पहने कोई अब फ़ुर्सत कहाँ अब नहाना खाना सोना है सखा क्या चाहिए   एक बिस्तर दो बदन माज़ी के ख्वाबे-दिलनशीं घर है, टीवी, फैन से बेहतर हवा क्या चाहिए   शाहराहों पर गली कूचों…

January 3, 2021

बेटी पर सख्ती, बेटे को मस्ती के अधिकार मिले नगर नगर कस्बों गाँवों को सीख में ये उपहार मिले   बालिग़ नाबालिग़ सब वहशी, तल्बा ज़ुल्म के मकतब के औरत की अस्मत के लुटेरे बन के सरे-बाज़ार मिले   बेटी बचाओ, बेटी पढाओ, बेटी बसाओ के नारे झूठ फ़रेब के गाँवों  में  फुसलाने के किरदार…

January 3, 2021

तुम्हारे लफ़्ज़ों को भावनाओं की पालकी में बिठा रहा हूँ दिले- हज़ीं में मची है हलचल मैं आँसुओं को छुपा रहा हूँ   तुम्हारी पलकें झुकी हुई हैं तुम्हारे लब थरथरा रहे हैं तुम्हारी ठोड़ी को उँगलियों से मैं धीरे धीरे उठा रहा हूँ   तुम्हारी ख़ातिर ही की बग़ावत तुम्हें शिकायत है क्यूँ ज़ियादा…

January 3, 2021

मुँह  पे गमछा बाँधने की ठान ली गाँव ने दो गज़ की दूरी मान  ली   आपदाओं में भी अवसर खोजना यह कला भी देश ने पहचान ली   मास्क, सैनीटाइज़र बनने लगे देश ने किट की चुनौती मान ली   ट्रेन मजदूरों की ख़ातिर चल पड़ीं बच्चों ने घर पर सुखद मुस्कान ली  …

January 3, 2021

गमले में तुलसी जैसी उगाई है ज़िन्दगी पूजा है, अर्चना है, दवाई है ज़िन्दगी   किस ने कहा कि रास न आई है जिंदगी हद दर्ज़ा सादगी से निभाई है ज़िन्दगी   बस टीवी मोबाइल से सजाई है ज़िन्दगी हमने कहाँ कहाँ न गँवाई है ज़िन्दगी   जब से हुआ है प्रेम की जुल्फों में…

January 3, 2021

मसअला मुल्क का हल हो ये कहाँ मुमकिन है घर ग़रीबों का महल हो ये कहाँ मुमकिन है   शोख़ अदाओं का न छल हो ये कहाँ मुमकिन है उनके माथे पे न बल हो ये कहाँ मुमकिन है   मुख्तलिफ़ राय के अफ़राद इकट्ठे न हों जब खिलना लाज़िम न कँवल हो ये कहाँ…

January 3, 2021

इस दौर के भारत का  अंदाज़ अनूठा है अब रिश्ता अदालत का इंसाफ़ से टूटा है   जो बात नहीं शामिल क़ानूनी मसौदे में उस पर ही सियासत ने इस देश को लूटा है   मस्ती थी, बहलते थे, सुहबत के उजालों में अब कैसे बताएं हम क्यूं साथ वो छूटा है   यौवन के…