दाल रोटी और दवाई के सिवा क्या चाहिए     

दाल रोटी और दवाई के सिवा क्या चाहिए

लॉक डाउन में मेरे भाई भला क्या चाहिए

 

शर्ट टाई पैंट पहने कोई अब फ़ुर्सत कहाँ

अब नहाना खाना सोना है सखा क्या चाहिए

 

एक बिस्तर दो बदन माज़ी के ख्वाबे-दिलनशीं

घर है, टीवी, फैन से बेहतर हवा क्या चाहिए

 

शाहराहों पर गली कूचों में बेहद शोर है

पागलों सी चीखती ज़ालिम क़ज़ा क्या चाहिए

 

घर में रहिये घर में ही महफूज़ है यह ज़िन्दगी

घर से बाहर मौत है कहिये वबा क्या चाहिए

 

औरतें छल बल से बेबस हो गईं  दालान में

मर्द की मर्दानगी ख़ुश है  मज़ा क्या चाहिए

 

हमसे तो पूछी नहीं है खैरियत उसने कँवल

आप से किसने कहा किसने कहा क्या चाहिए

 

रमेश कँवल

15 मई,2020

Leave a Comment