ज़िंदगी इन दिनों उदास कहाँ

ज़िंदगी इन दिनों उदास कहाँ
तुझ से मिलने की दिल में आस कहाँ

मौसमों में गुलों की बास कहाँ
मुफ़्लिसी मेरी ख़ुश-लिबास कहाँ

लॉन से फूल पतियाँ ओझल
तेरी यादों की नर्म घास कहाँ

रतजगा फूल तारे चाँद हुआ
नींद बिस्तर के आस-पास कहाँ

Leave a Comment